बेतकल्लुफ

कुछ ना करना गुनाह, करना भी तो गुनाह, करके ही देख लेते हैं, बेफिजूल की है ज़िन्दगी वैसे भीदिल खोलन चाहे है ये दिल, कुछ…